‘केंद्र सरकार की कितनी नीच हरकत है…’, चावल सप्लाई को लेकर सिद्धारमैया का निशाना, BJP ने किया

1 min read

[ad_1]

BJP On Siddaramaiah: कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्दारमैया के केंद्र सरकार और बीजेपी को नीच कहने को लेकर केंद्रीय संसदीय कार्य मंत्री प्रह्लाद जोशी ने गुरुवार (7 सितंबर) को पलटवार किया. उन्होंने कहा कि ये लोग प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से जल रहे हैं.  

केंद्रीय मंत्री प्रह्लाद जोशी ने कहा, ”सिद्दारमैया और कांग्रेस ने पीएम मोदी को नीच कहने का प्रयास किया. इससे पहले भी मणिशंकर अय्यर ऐसा कह चुके हैं. ऐसा इसलिए क्योंकि पीएम मोदी गरीब परिवार से आते हैं. कांग्रेस और गांधी परिवार के चेलों को जलन ये है कि नरेंद्र मोदी जिस सीट पर बैठे हैं, वो हमारी है. गरीब आदमी कैसे बैठ गया है? इस कारण ये लोग ऐसे बोलते रहते हैं.” 

प्रह्लाद जोशी ने क्या कहा? 
बीजेपी नेता  प्रह्लाद जोशी ने आगे कहा कि देश में सूखे कि स्थिति है. इस कारण हमारे पास चावल नहीं है. इसको देखते हुए इसका निर्यात को भी बंद कर दिया है. इस वजह से चावल के दाम भी बढ़े हैं. बीजेपी शासित सहित अन्य राज्यों को भी हम पांच किलों से ज्यादा चावल नहीं दे पा रहे हैं. 

उन्होंने आगे कहा कि क्या आपने (सिद्दारमैया) गारंटी कार्ड में घोषणा की थी कि केंद्र सरकार चावल देगी तो तब ही हम देंगे? चावल गुजरात, यूपी और मध्य प्रदेश सरकार ने भी मांगा है, लेकिन नहीं है. नीच कहना कांग्रेस के घमंड का उदाहरण है. 

सिद्दारमैया ने क्या कहा है?
कांग्रेस नेता सिद्दारमैया ने कहा, ”हमने चुनाव से पहले कहा था कि कर्नाटक के लोगों को मिलने वाले चावल से पांच किलो ज्यादा दूंगा. सरकार ने मुफ्त चावल को घटाकर सिर्फ पांच किलो कर दिया. हमने फूड कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (FCI) को लिखा कि हम चावल खरीदना चाहते हैं. एफसीआई ने हमें विश्वास दिलाया कि चावल मिलेगा, लेकिन केंद्र सरकार ने मना कर दिया.” 

उन्होंने आगे कहा कि क्या बीजेपी गरीबों की सरकार है? ये नहीं है. हमने फ्री में चावल नहीं मांगा था. हम प्रति किलो के 36 रुपये देने को तैयार थे. आप सभी को यह तय करना होगा कि वे कितने (बीजेपी और केंद्र सरकार) कितनी नीच (घृणित) हैं. वे गरीब विरोधी हैं. वे अमानवीय हैं.

ये भी पढ़ें- Karnataka: सिद्धारमैया ने केंद्र सरकार को बताया ‘नीच’, चावल आपूर्ति में कमी को लेकर पीएम मोदी पर क्यों भड़के?



[ad_2]

Source link

You May Also Like

More From Author