कोटा: सुसाइड की घटना के बीच कलेक्टर का छात्रों को मार्मिक खत, कहा- ‘जाने से पहले ये तो सोचा…’

1 min read

[ad_1]

Kota District Collector Write a Letter To Student: कोटा जिला कलेक्टर ओपी बुनकर ने विद्यार्थियों के एकाकी जीवन एवं तनाव को कम करने के लिए विद्यार्थियों के नाम पत्र लिखकर सभी कोचिंग संस्थानों एवं हॉस्टलों के माध्यम से विद्यार्थियों तक पहुंचायां है. जिला कलक्टर ने देशभर से आने वाले विद्यार्थियों के लिए जिला प्रशासन को अभिभावक के रूप में मानने का संदेश देते हुए सपने साकार करने का आह्वान किया है. 

जिला कलेक्टर ने लिखा कि आज जैसे ही मुझे सूचना मिली कि एक और छात्र ने अपनी जीवन लीला समाप्त कर ली, मन व्यथित हो गया आंखें नम हो गई, मैं चिंतित हूं कि ऐसा क्या हुआ? एक होनहार बच्चे को हमेशा के लिए खो दिया. तुम तो चले गए पर जाने से पहले यह तो सोचते कि तुम्हारे माता-पिता पर क्या गुजरेगी, जो तुम्हारे सपनों को पूरा करने के लिए अपना सर्वस्व तुम पर न्योछावर करना चाहते थे. जब तुम अपने सपने को पूरा करने के लिए पहली बार मेरे शहर में आए तो मेरे परिवार के सदस्य बन गए. 

मेरे शहर में आने वाले हर बच्चे का ख्याल रखूं और उन्हें एक खुशनुमा माहौल दूं यह प्रयास हर समय करता रहता हूं. आपके बीच कई बार सुखद वक्त मैंने बिताया है अपनी मंजिल को पाने के लिए तुम भी तो बहुत मेहनत करते हो पर एक रास्ता बंद होने पर कई और रास्ते तुम्हारा इंतजार कर रहे है. कभी-कभी तुम्हे लगता है कि इतनी मेहनत के बावजूद तुम वह हासिल नहीं कर पा रहे हो जो तुम्हे मिलना चाहिए, पर यह भी तो सही है असफलता सफलता की पहली सीढ़ी होती है. 

असफलता आपके व्यक्तित्व का पैरामीटर नहीं 
जिला कलक्टर ने अपने पत्र में आगे लिखा कि एक टेस्ट की रैंकिंग क्या गिरी तुमने अपने आप को टूटा हुआ मान लिया हमेशा तनावग्रस्त रहने लगे. हॉस्टल की चारदीवारी में अपने आप को कैद कर लिया और बस यही सोचते रहे कि अब कुछ नहीं हो सकता. कोई भी असफलता आपके व्यक्तित्व का पैरामीटर नहीं है. एक बार बाहर आकर तो देखो क्या नहीं है मेरे शहर में दुनिया का खूबसूरत रिवर फ्रंट, चम्बल की उठती हुई लहरें सुन्दरतम बाग-बगीचे, हर चौराहा जो आपके स्वागत को आतुर है. 

कभी-कभी तो मैं खुद तुम्हारे चेहरे पर हंसी देखने के लिए संगीत में मस्त हो जाता हूं. बाहर की आबोहवा, दोस्तों से मिलना और दिन के कुछ घंटे, कुछ मस्ती और फन में भी गुजरने चाहिए. इस शहर में तुम अकेले नहीं हो. मैं हूं ना, हर छात्र-छात्रा के लिए मेरा घर-मेरा ऑफिस हमेशा खुला है. संकोच मत रखना. तनाव को साझा करना सीखों आपके मन में किसी भी प्रकार का डर या तनाव है तो मुझसे साझा करें.

दुनिया में आपको कोई नहीं हरा सकता 
आपके मानसिक स्ट्रेस को दूर करने के लिए मैंने संडे को फन-डे बनाने का फैसला लिया. उस दिन सिर्फ तुम्हारे साथ संगीत की सुरमई शाम होगी, दोस्तों से मिलने का मौका होगा, न कोई टेस्ट का झंझट बस मस्ती और मस्ती. योगा भी तो कर सकते हो ताकि अपने आप को तरोताजा महसूस कर सको. कोचिंग संस्थान, हॉस्टल कई सामाजिक संस्थाएं तथा मेरी पूरी टीम हमेशा आपके चेहरे पर मुस्कुराहट के लिए प्रयासरत है. आपकी कोई भी समस्या हो चाहे फीस रिफंड से संबंधित, गुणवत्तापूर्ण भोजन एवं किसी भी प्रकार की शारीरिक परेशानी हो मुझे बेहिचक स्टूडेंट हेल्पलाइन कोटा पर लिखकर भेज दें. उसके बाद समस्या का समाधान करने की जिम्मेदारी मेरी और मेरी टीम की है.

मन में कभी भटकाव का विचार आये तो इनको शेयर करे
आपके पास बहुत सारी संभावनाएं हैं और आप अपने जीवन में बहुत कुछ हासिल कर सकते हैं. लेकिन पहले आपको अपनी मदद करनी होगी. आपको अपना आत्मविश्वास वापस पाना होगा और यह विश्वास करना होगा कि आपके जीवन में कुछ अच्छा हो सकता है. दबाव व तनाव से अपने आप को दूर रखें और जिन सपनों को लेकर आप इस शहर में आये है, उन्हें शिद्दत से पूरा करने की कोशिश करें. मन में कभी भटकाव का विचार आये तो अपने गुरु माता-पिता व मुझसे जरूर शेयर करे.

जब तुम अपनी मंजिल को पाकर इस शहर से जाओगे तो मुझे जरूर याद करना तुम्हारा हंसता मुस्कुराता चेहरा मेरे लिए किसी सौभाग्य से कम नहीं है. मेरे प्यारे बच्चों आप मजबूत है आपके पास जीवन जीने के लिए बहुत कुछ है. आपमें हर कमजोरी, हर समस्या को दूर कर आगे बढ़ने का हौसला है. यकीन मानिए जब तक आप खुद हार नहीं मानते तब तक दुनिया में आपको कोई नहीं हरा सकता.

ये भी पढ़ें: Rajasthan: मेवाड़ के वे उपचुनाव जो सुर्खियों में रहे, बड़े नेताओं की प्रतिष्ठा लगी दांव पर

[ad_2]

Source link

You May Also Like

More From Author