क्या है आसियान समिट जिसमें हिस्सा लेने इंडोनेशिया जाएंगे पीएम मोदी, जानिए इसके बारे में सब कुछ

1 min read

[ad_1]

ASEAN Summit PM Modi: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दक्षिण पूर्व एशियाई देशों के संघ के साथ देश के व्यापार और सुरक्षा संबंधों को मजबूत करने के लिए आसियान-भारत और पूर्वी एशिया शिखर सम्मेलन में भाग लेने के लिए 6-7 सितंबर तक इंडोनेशिया का दौरा करेंगे. विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि मोदी इंडोनेशियाई राष्ट्रपति जोको विडोडो के निमंत्रण पर बैठकों के लिए जकार्ता की यात्रा कर रहे हैं.

क्या है आसियान समिट का उद्देश्य?

इंडोनेशिया आसियान का वर्तमान अध्यक्ष है. इस समिट की दो महत्वपूर्ण बैठकें भारत द्वारा 9-10 सितंबर के दौरान नई दिल्ली में जी20 शिखर सम्मेलन की मेजबानी से कुछ दिन पहले आयोजित की जाएंगी. बता दें कि आसियान शिखर सम्मेलन दक्षिण पूर्व एशियाई देशों के आर्थिक, राजनीतिक, सुरक्षा और सामाजिक-सांस्कृतिक विकास के संबंध में दक्षिण पूर्व एशियाई देशों के संगठन (आसियान) के सदस्यों द्वारा आयोजित एक द्विवार्षिक बैठक है. इस समूह में दस सदस्य देश हैं- ब्रुनेई, कंबोडिया, इंडोनेशिया, लाओस, मलेशिया, म्यांमार, फिलीपींस, सिंगापुर, थाईलैंड और वियतनाम. भारत अभी इस समूह का सदस्य नहीं है.

भारत के लिए होगा मौका

पूर्वी एशिया शिखर सम्मेलन आसियान देशों के नेताओं और भारत सहित समूह के आठ भागीदारों के लिए क्षेत्रीय और वैश्विक मुद्दों पर विचारों का आदान-प्रदान करने का एक अवसर होगा. इंडो-पैसिफिक के लिए भारत की नीति में आसियान का केंद्रीय स्थान रहा है. भारत के प्रमुख आसियान सदस्यों, विशेषकर सिंगापुर के साथ भी महत्वपूर्ण व्यापार और निवेश संबंध हैं.

इससे पहले ऐसी अटकलें थीं कि मोदी आसियान संबंधी बैठकों से इतर चीन के नेतृत्व के साथ बातचीत कर सकते हैं. हालांकि, राष्ट्रपति शी जिनपिंग जकार्ता में बैठकों में भाग नहीं ले रहे हैं और चीनी प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व प्रधानमंत्री ली कियांग करेंगे. ली के अगले सप्ताह नई दिल्ली में जी20 शिखर सम्मेलन में चीनी प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व करने की भी उम्मीद है.

9 से 10 सितंबर के बीच होगी G-20 समिट

भारत में आयोजित होने जा रहे जी20 शिखर सम्मेलन में कुल 20 देश हैं. G20 सदस्य देश वैश्विक सकल घरेलू उत्पाद का लगभग 85% और वैश्विक व्यापार का 75% से अधिक का प्रतिनिधित्व करते हैं. जनसंख्या की बात करें तो दुनिया की लगभग दो-तिहाई आबादी इस सदस्य देशों की है.

ये भी पढ़ें: अखबारों के पन्नों के नीचे छापे चार रंगों की कहानी जानें?

[ad_2]

Source link

You May Also Like

More From Author