क्या I.N.D.I.A को करना चाहिए PM उम्मीदवार का ऐलान, मोदी के खिलाफ कौन? सर्वे में बड़े खुलासे

1 min read

[ad_1]

ABP C Voter Survey: देश में समय से पहले लोकसभा चुनाव की चर्चा के साथ सियासी तापमान चढ़ा हुआ है. सरकार ने संसद का विशेष सत्र बुलाया है और शुक्रवार (1 सितंबर) को ही विपक्षी गठबंधन इंडिया की मुंबई में दो दिवसीय बैठक संपन्न हुई जिसमें कई मुद्दों पर सहमति बनी. हालांकि, मीटिंग में न तो संयोजक को लेकर फैसला हो पाया और न ही अलायंस का लोगो फाइनल हुआ.

सरकार ने 18 से 22 सितंबर तक संसद का विशेष सत्र बुलाया है. सत्र में क्या होगा ये किसी को नहीं पता, लेकिन अटकलें कई तरह की हैं. चर्चा है कि समय से पहले चुनाव का ऐलान हो सकता है. साथ ही वन नेशन, वन इलेक्शन पर फैसला हो सकता है. जनसंख्या नियंत्रण कानून की बात भी हो रही है. कुल मिलाकर संसद के विशेष सत्र का सस्पेंस गहराया हुआ है. ऐसे सियासी माहौल में एबीपी न्यूज़ के लिए सी वोटर ने ऑल इंडिया सर्वे किया है. आपको बताते हैं कि इस सर्वे के नतीजे क्या रहे. 

इंडिया को पीएम उम्मीदवार घोषित करना चाहिए?

इस सर्वे में सवाल किया गया कि क्या I.N.D.I.A गठबंधन को पीएम उम्मीदवार घोषित करना चाहिए? इसके जवाब में सर्वे में शामिल लोगों में से 51 प्रतिशत ने हां में जवाब दिया. जबकि 32 प्रतिशत लोगों ने नहीं कहा. सर्वे में 17 प्रतिशत लोगों ने पता नहीं में जवाब दिया. 

विपक्षी गठबंधन में सबसे मजबूत पीएम दावेदार कौन?

इस ऑल इंडिया सर्वे में इंडिया गठबंधन को लेकर एक और सवाल किया गया. इसमें पूछा गया कि इंडिया गठबंधन में पीएम के लिए सबसे मजबूत दावेदार कौन है? इस सवाल के बेहद हैरान करने वाले जवाब मिले हैं. सर्वे में शामिल लोगों में से 29 प्रतिशत ने कांग्रेस नेता राहुल गांधी का नाम लिया. जबकि 9 प्रतिशत ने आप के राष्ट्रीय संयोजक और दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल को चुना. 

इसके अलावा 6 प्रतिशत लोगों ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का नाम लिया. वहीं 3 प्रतिशत ने सपा चीफ अखिलेश यादव, 3 प्रतिशत ने पश्चिम बंगाल की सीएम और टीएमसी चीफ ममता बनर्जी, 6 प्रतिशत ने शिवसेना (यूबीटी) चीफ उद्धव ठाकरे को चुना. 40 प्रतिशत लोगों ने इनमें से कोई नहीं कहा और 4 प्रतिशत ने पता नहीं कहा. 

राहुल गांधी के दावे पर है कितना विश्वास 

इस सर्वे में सवाल किया गया कि राहुल गांधी ने कहा है कि 2024 में मोदी को हरा देंगे, राहुल के दावे पर क्या विश्वास है? इसके जवाब में 35 प्रतिशत लोगों ने कहा कि हां, राहुल गांधी के दावे पर विश्वास है. जबकि 60 प्रतिशत लोगों ने नहीं में जवाब दिया. 5 प्रतिशत ने पता नहीं कहा. 

बीएसपी के अकेले चुनाव लड़ने से होगा नुकसान?

सर्वे में बीएसपी को लेकर भी लोगों से सवाल पूछा गया. सर्वे में सवाल किया गया कि बीएसपी के अकेले चुनाव लड़ने का फैसला क्या मायावती के लिए घातक है? इसपर सर्वे में शामिल लोगों में से 44 प्रतिशत ने हां में जवाब दिया. जबकि 31 प्रतिशत ने नहीं कहा. 25 प्रतिशत लोग ऐसे थे जिन्होंने पता नहीं कहा. 

अकाली दल को एनडीए में लौटना चाहिए?

इस ऑल इंडिया सर्वे में सवाल किया गया कि क्या अकाली दल को एनडीए में लौटना चाहिए? इसके जवाब में सर्वे में शामिल लोगों में से 47 प्रतिशत ने कहा कि हां, अकाली दल को एनडीए में लौटना चाहिए. जबकि 23 प्रतिशत लोगों ने नहीं में जवाब दिया. 30 प्रतिशत लोगों ने पता नहीं कहा. 

सिलेंडर के दाम कम होने पर पूछे गए सवाल

सर्वे में लोगों से पूछा गया कि विपक्ष का दावा है कि सरकार डरी हुई है इसलिए सिलेंडर का दाम कम किया? इसपर 42 प्रतिशत लोगों ने कहा कि विपक्ष का दावा सही है. वहीं 51 प्रतिशत ने कहा कि ये दावा गलत है. 7 प्रतिशत लोगों ने पता नहीं में जवाब दिया. 

इस ऑल इंडिया सर्वे में सवाल किया गया कि क्या सिलेंडर का दाम कम करने से बीजेपी को चुनाव में फायदा मिलेगा? इसके जवाब में 50 प्रतिशत लोगों ने कहा कि हां, बीजेपी को फायदा मिलेगा. जबकि 40 प्रतिशत ने नहीं में जवाब दिया. वहीं 10 प्रतिशत लोगों ने पता नहीं कहा.

नोट: abp न्यूज़ के लिए सी वोटर ने ये ऑल इंडिया सर्वे किया है. इस सर्वे में 2 हजार 188 लोगों की राय ली गई है. सर्वे गुरुवार से आज दोपहर तक किया गया है. सर्वे में मार्जिन ऑफ एरर प्लस माइनस 3 से प्लस माइनस 5 फीसदी है. सर्व के नतीजे पूरी तरह से लोगों से की गई बातचीत और उनके द्वारा व्यक्त की गई राय पर आधारित हैं. सर्वे में मार्जिन ऑफ एरर प्लस माइनस 3 से प्लस माइनस 5 फीसदी है. इसके लिए abp न्यूज़ ज़िम्मेदार नहीं है.  

ये भी पढ़ें- 

Chandrayaan 3: ‘प्रज्ञान रोवर ने चांद की सतह पर लगाई सेंचुरी’, ISRO ने ताजा अपडेट में क्या कहा?

[ad_2]

Source link

You May Also Like

More From Author