ताकतवर इजरायल के लिए आसान नहीं गाजा की जंग, हमास के इस ‘हथियार’ से पार पाना हुआ मुश्किल

1 min read

[ad_1]

Israel Hamas War in Gaza Patti: पिछले दिनों आतंकी हमले से बौखलाए इजरायल ने हमास के खिलाफ युद्ध का ऐलान कर रखा है. इजरायल लगातार फिलिस्तीन में खासकर गाजा पट्टी पर हमले कर रहा है. रॉकेट औऱ मिसाइलों के हमले से फलस्तीन में एक हजार से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है, हजारों घर टूट चुके हैं. हमलों का दौर अब भी जारी है, पर इजरायल के लिए अब भी हमास की ओर से अगवा किए गए करीब 150 लोगों का पता लगाना मुश्किल बना हुआ है.

इजरायल की सेना को अब तक अगवा किए गए लोगों का कोई सुराग नहीं मिला है. गाजा में सर्च ऑपरेशन लगातार जारी है. ऐसे में सबसे बड़ा सवाल ये उठता है कि आखिर गाजा में ऐसा क्या है जिसकी वजह से इजरायल की सेना अब तक खाली हाथ है, क्यों उन्हें अगवा किए गए एक भी शख्स का कुछ पता नहीं चल पाया है. यहां हम जानने की कोशिश करेंगे इस देरी की असल वजह.

सुरंगों की वजह से पार पाना है मुश्किल

हमास की ओर से संचालित गाजा पट्टी एक छोटा सा इलाका है, जो 40 किलोमीटर (25 मील) लंबा और करीब 12 किलोमीटर (7 मील) चौड़ा है. यहां बड़ी संख्या में सुरंगे हैं, जिसकी वजह से रक्षा जानकार गाजा पट्टी की तुलना वियतनाम से भी करते हैं. वह बताते हैं कि इजरायल के लिए इन सुरंगों का पार पाना इतना आसान नहीं होगा. अमेरिका वियतनाम में इन सुरंगों की वजह से 20 साल तक उलझा रहा था.

एक्सपर्ट बताते हैं कि गाजा में बाड़ ही एकमात्र रास्ता नहीं है. हमास के आतंकी सुरंगों के जरिए भी गाजा से इजरायल में घुस सकते हैं या एक स्थान से दूसरे स्थान पर जा सकते हैं. हमास इन सुरंगों का इस्तेमाल हथियारों और अन्य प्रतिबंधित पशुओं की तस्करी करने के लिए करता है. ये सुरंगें कहां से निकलती हैं और कहां खत्म होती हैं, इसे जानना बहुत मुश्किल है. यही वजह है कि अभी तक इन अगवा लोगों को पता नहीं चल सका है.

अगवा लोगों को छुड़ाना इसलिए भी मुश्किल

हमास ने करीब 150 अगवा लोगों को छोड़ने के बदले में फलस्तीन के उन सभी 5,200 कैदियों की रिहाई की मांग की है जो इजरायल की जेल में बंद हैं. हमास ने चेतावनी दी है कि जब भी इजरायल की सेना बिना किसी चेतावनी के गाजा में नागरिक ठिकानों पर बमबारी करेगी तो वह एक बंधक को मार डालेगा. हमास खुद भी लोकेशन और अगवा किए गए लोगों के बारे में नहीं बता रहा है. इसके अलावा दूसरे देशो से भी अगवा लोगों की कोई सूची नहीं आई है. ऐसे में यह साफ नहीं हो पा रहा है कि कितने लोग अगवा हुए हैं, कौन जिंदा है और कौन मर गया. इस स्थिति में इन्हें छुड़ाना और मुश्किल दिख रहा है.

अगवा लोगों के परिवार वाले हो रहे परेशान

जिन लोगों को हमास के लड़ाके अगवा करके ले गए हैं, उनके परिवार वाले काफी परेशान हैं. एली एल्बैग की 18 साल की सैनिक बेटी लिरी हमास के हमले के बाद से लापता है. वह कई दिनों से उससे संपर्क करने की कोशिश कर रही हैं, लेकिन कामयाब नहीं हो पा रहीं. हालांकि, उसका एक वीडियो सामने आया है जिसमें वह एक इजरायली सैन्य ट्रक की पिछली सीट पर बैठी हुई नजर आ रही थी. इस ट्रक को आतंकवादियों ने अपने कब्जे में ले रखा था. उसके साथ दो और लोग बंधक थे. लिरी की मां कहती हैं एल्बैग कहती हैं वह इजरायली ऑपरेशन को समझती हैं लेकिन लिरी की सुरक्षा को लेकर चिंतित हैं.

अमेरिका के कई नागरिक भी इन लोगों की लिस्ट में

मंगलवार (10 अक्टूबर) को, संयुक्त राज्य अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन ने पुष्टि करते हुए कहा की कि बंधकों में अमेरिकी भी शामिल हैं. हालांकि अमेरिका ने इजरायल से अपने यात्रियों की डिले मांगी है ताकि उन्हें सकुशल लाने का प्रयास हो सके. 

ये भी पढ़ें

Israel Gaza Attack: कौन है इजरायल को हमलों का ‘दर्द’ देने वाला हमास का मुखिया इस्माइल हानिये? जानिए अब तक क्यों नहीं हो पाया ढेर

[ad_2]

Source link

You May Also Like

More From Author