तेलंगाना में वाईएस शर्मिला और कांग्रेस में नहीं बनी बात? YSRTP ने इतनी सीटों पर लड़ेगी चुनाव

1 min read

[ad_1]

Telangana Assembly Elections 2023: तेलंगाना में अगले माह 30 तारीख को विधानसभा चुनाव होने जा रहे हैं. चुनाव आयोग की ओर से तारीख का ऐलान करने के बाद से सभी राजनीतिक दल चुनावी दंगल में जोर-शोर से उतर गए हैं. इस बीच कांग्रेस और वाईएसआर तेलंगाना पार्टी के बीच गठबंधन पर बात नहीं बन सकी. 

इसके साथ ही पूर्व मुख्यमंत्री वाईएस राजशेखर रेड्डी की बेटी और वाईएसआरटीपी की संस्थापक प्रमुख वाईएस शर्मिला ने तेलंगाना की सभी 119 सीटों पर प्रत्याशी उतारने का ऐलान किया है.  

वाईएस शर्मिला ने गुरुवार को कहा, “वाईएसआर तेलंगाना पार्टी राज्य की सभी सीटों पर अकेले चुनाव लड़ेगी, जिसके बाद कांग्रेस-वाईएसआरटीपी गठबंधन को लेकर चल रही अटकलों पर विराम लग गया है.”

इससे पहले संभावना जताई जा रही थी कि दोनों दल तेलंगाना के सत्तारूढ़ दल भारत राष्ट्र समिति (BRS) के खिलाफ मिलकर चुनावी मैदान में उतर सकते हैं. इस मामले को लेकर शर्मिला ने करीब 4 माह तक इंतजार किया और अब सभी सीटों पर चुनाव लड़ने का ऐलान कर दिया.

सोनिया-राहुल गांधी से की थी मुलाकात
कर्नाटक चुनावों के दौरान दोनों के बीच गठबंधन होने की खबरें सामने आईं थी. एनडीटीवी की रिपोर्ट के मुताबिक इस मामले को लेकर पिछले महीने शर्मिला ने कांग्रेस की पूर्व अध्यक्षा सोनिया गांधी और राहुल गांधी से मुलाकात भी की थी. वाईएस शर्मिला का कहना है कि अब कोई हमें केसीआर (मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव) विरोधी वोटों को विभाजित करने के लिए दोषी नहीं ठहरा सकता.  

जगन रेड्डी की बहन हैं वाईएसआरटीपी की चीफ शर्मिला 
गौरतलब है कि शर्मिला आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री वाईएस जगन मोहन रेड्डी की बहन हैं और कांग्रेस चहाती थी कि शर्मिला अपने भाई जगन रेड्डी के साथ मिलकर आंध्र प्रदेश में कांग्रेस को मजबूत बनाने का काम करे.

आंध्र प्रदेश में अगले साल विधानसभा चुनाव होंगे, लेकिन वाईएस शर्मिला ने कांग्रेस के प्रस्ताव को खारिज करते हुए अब अकेले चुनावी दंगल में बीआरएस और कांग्रेस के खिलाफ मजबूती से प्रत्याशी उतारने का ऐलान किया है.  

‘शर्मिला ने मां और प​ति के भी चुनाव लड़ने की जताई संभावना’
शर्मिला का कहना है कि उनकी मां वाईएस विजयलक्ष्मी (Vijayalakshmi Reddy) और पति अनिल कुमार के चुनाव लड़ने की मांग की जा रही थी. उन्होंने कहा, “अगर जरूरत पड़ी तो वे भी चुनाव लड़ेंगे. मेरी मां ने कहा है कि वह मेरा समर्थन करने के लिए जो भी जरूरी होगा वह करेंगी. जब मैंने अपनी पार्टी बनाई थी तो उन्होंने यह वादा किया था कि वह मेरे साथ खड़ी रहेंगी.”  शर्मिला खुद पलेयर विधानसभा से चुनाव लड़ेंगी. 

कांग्रेस के ​निर्णय के बाद अब शर्मिला ने उठाया ये कदम 
शर्मिला ने दो हफ्ते पहले कहा था कि कांग्रेस के साथ किसी भी गठबंधन पर अंतिम निर्णय सितंबर के अंत तक लिया जाएगा. पार्टी ने कहा था कि अगर गठबंधन पर बात नहीं बनी तो पार्टी सभी 119 सीटों पर चुनाव लड़ेगी. तेलंगाना में 30 नवंबर को मतदान होगा और नतीजे 3 दिसंबर को घोषित होंगे.

(भाषा इनपुट के साथ
 
यह भी पढ़ें: Telangana Election 2023: तेलंगाना में कांग्रेस के सामने क्या हैं चुनौतियां? समझें

[ad_2]

Source link

You May Also Like

More From Author