देश में क्यों 29 अगस्त को मनाया जाता है नेशनल स्पोर्ट्स डे, जानिए इस तारीख का महत्व और इतिहास

1 min read

[ad_1]

National Sports Day 2023 Wishes: भारत में हर साल राष्ट्रीय खेल दिवस (National Sports Day) 29 अगस्त को मनाया जाता है. इस दिन महान हॉकी खिलाड़ी मेजर ध्यानचंद का साल 1905 में प्रयागराज में जन्म हुआ था और उन्हीं की जयंती के मौके पर देश में इस दिन नेशनल स्पोर्ट्स डे मनाया जाता है. खेल दिवस के मौके पर देशवासियों को स्पोर्ट्स के प्रति जागरूक करने के साथ उन्हें फिट रहने के सुझाव भी दिए जाते हैं. भारत में जहां 29 अगस्त को स्पोर्ट्स डे मनाया जाता है तो वहीं दूसरे देशों में अलग-अलग तारीखों में स्पोर्ट्स डे मनाया जाता है.

राष्ट्रीय खेल दिवस के मौके पर देश में कई तरह की स्पोर्ट्स प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जाता है, जिसमें कबड्डी, मैराथन, बास्केटबॉल, वॉलीबॉल, हॉकी और भी काफी स्पोर्ट्स इवेंट होते हैं. मेजर ध्यानचंद ने साल 1928, 1932 और 1936 में भारत के लिए ओलंपिक में स्वर्ण पदक को अपने नाम किया था. अपने हॉकी करियर में मेजर ध्यानचंद ने 500 से भी अधिक गोल किए.

स्पोर्ट्स डे को मनाने के पीछे एक बड़ा कारण युवा खिलाड़ियों को उनके करियर में आगे बढ़ने के लिए प्रेरणा देना है. इससे वह फिट रहने के साथ अपने खेल को लेकर गंभीर रह सके. मौजूदा समय में देखा जाए तो अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भारत का खेल की दुनिया शानदार प्रदर्शन भी देखने को मिल रहा है. देश में खेलों में महत्वपूर्ण योगदान देने के लिए अर्जुन पुरस्कार, मेजर ध्यानचंद खेल रत्न पुरस्कार और द्रोणाचार्य पुरस्कार दिए जाते हैं.

नेशनल स्पोर्ट्स डे पर कुछ महत्वपूर्ण कोट्स

“अगर मैं, दो बच्चों की मां होने के नाते, पदक जीत सकती हूं, तो आप सब भी जीत सकते हैं। मुझे एक उदाहरण के रूप में लें और हार न मानें.” – मैरी कॉम

“जब लोग आप पर पत्थर फेंकते हैं, तो आप उन्हें मील के पत्थर में बदल देते हैं.” – सचिन तेंदुलकर

“आपका सपना. आपकी योजना. आपकी पहुंच. बाधाएं आएंगी. संदेह करने वाले होंगे. गलतियां होंगी. लेकिन कड़ी मेहनत के साथ, विश्वास के साथ, खुद पर और अपने आस-पास के लोगों पर विश्वास के साथ, फिर कोई सीमा नहीं है.” – माइकल फेल्प्स

“आपके सपने ही आपके व्यक्तित्व को परिभाषित करते हैं. उनमें आपको पंख देने और ऊंची उड़ान भरने की शक्ति है” – पीवी सिंधु

“मुझे हमेशा लगता था कि मेरी सबसे बड़ी संपत्ति मेरी शारीरिक क्षमता नहीं थी, यह मेरी मानसिक क्षमता थी.” – ब्रूस जेनर

“अगर मेरे पास कुछ करने का कारण है, और मुझमें पर्याप्त जुनून है, तो मैं आम तौर पर सफल होता हूं.” – लिएंडर पेस

“सिर्फ स्वयं में विश्वास रखो। भले ही आप यह दिखावा न करें कि आप ऐसा करते हैं, और कुछ प्वाइंट पर, आप ऐसा करेंगे.” – वीनस विलियम्स

 

यह भी पढ़ें…

Neeraj Chopra: नीरज चोपड़ा के गोल्ड मेडल जीतने पर गांव में खुशी का माहौल, बधाई का लगा तांता

[ad_2]

Source link

You May Also Like

More From Author