पहले दिन जियो फाइनेंशियल ने किया निवेशकों को निराश, संस्थागत, ETF फंड्स की बिकवाली से बढ़ा दबाव

1 min read

[ad_1]

Jio Financial Share Price: रिलायंस इंडस्ट्रीज के शेयरहोल्डर जिन्हें जियो फाइनेंशिल सर्विसेज के स्टॉक एक्सचेंज पर लिस्टिंग का इंतजार था उन्हें कंपनी की लिस्टिंग के पहले दिन निराशा हाथ लगी है. संस्थागत निवेशकों की बिकवाली के चलते जियो फाइनेंशियल सर्विसेज के स्टॉक में लोअर सर्किट लग गया. 5 फीसदी की गिरावट के साथ स्टॉक एनएसई पर 248.90 रुपये और बीएसई पर 251.75 रुपये पर क्लोज हुआ है. 

20 जुलाई, 2023 को रिलायंस इंडस्ट्रीज से डिमर्जर के बाद 261 रुपये पर जियो फिन का शेयर का प्राइस डिस्कवर हुआ था. लेकिन लिस्टिंग के पहले दिन जहां ग्रे मार्केट के मुताबिक स्टॉक के 300 रुपये पर लिस्टिंग की उम्मीद थी वो 265 रुपये पर हुई और लिस्टिंग के बाद शेयर फिसल गया. 

ये माना जा रहा है कि रिलायंस के डिमर्जर के बाद जिन संस्थागत निवेशकों और म्यूचुअल फंड्स को जियो फाइनेंशियल के शेयर मिले हैं उन्होंने जियो फिन के शेयर बेचे हैं. एक अनुमान के मुताबिक म्यूचुअल फंड्स ने 145 मिलियन शेयर्स बेचे हैं.  इसके अलावा एक्सचेंज ट्रेडेड फंड्स (ETF Funds) ने भी जियो फिन के शेयरों की बिकवाली की है. 

बाजार के जानकारों का मानना है कि जियो फाइनेंशियल के स्टॉक में ये बिकवाली अगले कुछ दिन और जारी रह सकती है. बाजार में कई ब्रोकरेज हाउसेज ने 180 से 190 रुपये जियो फिन के शेयर का फेयर वैल्यू आंका था. लेकिन ये उनके अनुमान से ऊपर ट्रेड कर रहा है. इसलिए फेयर वैल्यू के आने तक स्टॉक में बिकवाली देखने को मिल सकती है. 

फिलहाल बाजार के सामने जियो फाइनेंशियल के बिजनेस मॉडल को लेकर भी धुंधली तस्वीर है जिसपर से 28 अगस्त, 2023 को रिलांयस इंडस्ट्रीज की होने वाली एजीएम बैठक में पर्दा उठेगा. हालांकि जियो फाइनेंशियल म्यूचुअल फंड कारोबार में उतरने के लिए ब्लैकरॉक के साथ करार कर चुका है. आने वाले समय में कंपनी मर्चेंट-कंज्यूमर लेंडिंग, इंश्योरेंस,पेमेंट बिजनेस और डिजिटल ब्रोकिंग कारोबार में भी कदम रख सकती है. 

जियो फाइनेंशियल की लिस्टिंग के साथ ही उसका मार्केट कैप 1,59,944 करोड़ रुपये रहा है. और इसके साथ स्टॉक एक्सचेंज पर लिस्टेड कंपनियों में जियो फिन 34वीं बड़ी कंपनी है और बजाज फाइनेंस और बजाज फिनसर्व के बाद तीसरी बड़ी एनबीएफसी कंपनी बन गई है.   

ये भी पढ़ें 

Titan Update: 7 वर्षों में 30 गुना ज्यादा कीमत देकर टाइटन खरीद रही कैरेटलेन में हिस्सेदारी, ब्रोकरेज हाउसेज हुए स्टॉक पर बुलिश

 

[ad_2]

Source link

You May Also Like

More From Author