मैंने मणिरत्नम को पोन्नियिन सेल्वन बनाने के लिए मना किया था, क्यों सुहासिनी ने कही थी ऐसी बात

1 min read

[ad_1]

ABP Southern Rising Summit 2023  : एबीपी सदर्न राइजिंग समिट में भाग लेने के लिए भारतीय अभिनेत्री और फिल्म डायरेक्टर सुहासिनी मणिरत्नम भी पहुंचीं. इस दौरान उन्होंने साउथ सिनेमा से लेकर बॉलीवुड फिल्मों तक पर बात की. सुहासिनी ने उस वक्त को भी याद किया जब कोविड के दौरान उन्होंने फिल्में बनाई थीं और किस तरह शूटिंग किया करती थीं. इस दौरान एक्ट्रेस से पूछा गया कि आप कमल हासन की नीस हैं और मणिरतन्म की पत्नी हैं. उनके साथ रहना क्या आपके लिए एक फुल टाइम जॉब की तरह है?

इस सवाल पर डायरेक्टर ने कहा, ‘ये फुल टाइम जॉब से कहीं ज्यादा है. ये 24 घंटे की नौकरी है. जब मैं 20 साल की थी तब हॉर्मोन्स अलग तरह  से काम करते थे, लेकिन जब आपका परिवार बनता है तो आप बदल जाते हैं. आज जो मैं हूं मैं वैसी पहली नहीं थी आज मैं पूरी तरह बदल चुकी हैं, लेकिन अपनी मर्जी से मुझपर किसी ने कोई दबाव नहीं डाला’.
 
Ponniyin Selvan बनाने से किया था मना
सुहासिनी ने ऐतिहासिक महाकाव्य पोन्नियिन सेलवन का जिक्र किया. उन्होंने बताया कि, “मैंने मणिरत्नम से यह फिल्म नहीं बनाने के लिए कहा था. इससे पहले बनाई गई कई राजनीतिक-ऐतिहासिक फिल्मों की विफलता के बाद मैं आश्वस्त थी कि इस तरह के विचार काम नहीं करेंगे. क्योंकि पॉलिटिक्स पर बनी फिल्म ईरूअर का रिस्पॉन्स देखकर मैं बहुत निराश थी. मैं उस फिल्म की राइटर थी. लेकिन पोन्नियिन सेल्वन की रिलीज़ के बाद मुझे एहसास हुआ की मैं गलत थी. वो फिल्म नहीं एक तरह का जश्न था’

बॉक्स ऑफिस की रेस को सुहासिनी ने बताया घिनौना : 
सुहासिनी ने खुलासा किया कि ‘कमल हसन और मणिरत्नम 35 साल बाद एक साथ काम करने जा रहे हैं और ये दोनों ही ऐसे हैं जो बॉक्स ऑफिस की चिंता नहीं करते चाहें फिल्म फ्लॉप हो या हिट.’ आजकल फिल्मों के लिए बॉक्स ऑफिस बहुत मायने रखता है क्या ये वल्गर नहीं है? इस सवाल पर सुहासिनी ने कहा कि ‘ये वल्गर नहीं घिनौना है. आप फिल्म को सक्सेस कह सकते हैं, एवरेज कह सकते हैं, कम सक्सेसफुल कह सकते हैं हमारे जमाने में तो किसी फिल्म को फ्लॉप कहा ही नहीं जाता था.’

सुहासिनी ने आगे ये भी बताया कि दक्षिण के अभिनेता एक परिवार की तरह हैं, उन्होंने कहा, “हमारे पास एक व्हाट्सएप ग्रुप है, हम हर दिन चैट करते हैं. अब हम अपने पोते-पोतियों की तस्वीरों के साथ-साथ दैनिक जीवन के अपडेट भी साझा करते हैं. उनमें से कई राजनेता हैं, इसलिए आज मैं उन्हें कहना चाहती हूं कि वहां गाजा-इजरायस पर वार्ता नहीं होगी.”

[ad_2]

Source link

You May Also Like

More From Author