‘यहां शिवराज और कमलनाथ नहीं…सनातन धर्म और अधर्म लड़ रहे’, सिवनी में बोले स्वामी रामभद्राचार्य

1 min read

[ad_1]

MP News: रामायण (Ramayan) और भागवत (Bhagwat) के प्रसिद्ध कथाकार स्वामी रामभद्राचार्य (Swami Rambhadracharya) ने सिवनी में कार्यक्रम के दौरान मध्य प्रदेश चुनाव (MP Elections) का जिक्र किया है. उन्होंने कहा कि यह चुनाव सनातन (Sanatan) और अधर्म के बीच लड़ा जा रहा है. रामभद्राचार्य का यह बयान डीएमके नेता उदयनिधि स्टालिन (Udainidhi Stalin) के सनातन को लेकर की गई विवादित टिप्पणी के बीच आई है.

उदयनिधि के बयान के बयान के बाद बीजेपी ने कांग्रेस और इंडिया गठबंधन को निशाने पर ले लिया. बीजेपी ने कांग्रेस पर ‘हिंदू विरोधी’ होने का आरोप लगाया. वहीं कांग्रेस ने बीजेपी के हमलों पर कहा कि वह सभी धर्मों का सम्मान करती है. कांग्रेस ऐसी टिप्पणियों से सहमत नहीं है.

अपनी सभा के दौरान रामभद्राचार्य ने कहा, ”यह लड़ाई शिवराज सिंह चौहान और कमलनाथ के बीच नहीं हो रही है बल्कि यह लड़ाई सनातन और अधर्म के बीच हो रही है. हमें देखना है कि कौन जीतता है. आप चिंता ना करें हम यह लड़ाई जीतेंगे.” रामभद्राचार्य इन दिनों रामकथा को लेकर सिवनी में मौजूद हैं. 

उदयनिधि ने सनातन पर कही थी यह बात
बता दें कि डीएमके नेता और तमिलनाडु के मंत्री उदयनिधि स्टालिन ने अपने बयान से विवाद खड़ा कर दिया था जब उन्होंने सनातन धर्म की तुलना डेंगू और मलेरिया से की थी. उन्होंने यहां तक कह दिया था कि सनातन धर्म सामाजिक न्याय और समानता के खिलाफ है. कुछ चीजों का विरोध नहीं किया जा सकता. उन्हें खत्म ही कर देना चाहिए.

उदयनिधि के खिलाफ कई राज्यों में केस दर्ज
उदयनिधि के बयान के बाद केंद्र की सत्तारूढ़ बीजेपी के नेताओं की प्रतिक्रिया आनी शुरू हो गई और यहां तक कि विपक्षी गठबंधन इंडिया के घटक दलों से भी जवाब मांगे जाने लगे. दरअसल, डीएमके भी इंडिया गठबंधन का हिस्सा है. उधर, उदयनिधि के बयान के खिलाफ दिल्ली, यूपी और महाराष्ट्र में केस दर्ज किए जा चुके हैं. उनके खिलाफ आईपीसी की धारा 153 और 295A के तहत केस दर्ज किया गया है. उनपर धार्मिक भावना भड़काने के आरोप लगे हैं. उदयनिधि के खिलाफ आम लोगों ने भी विरोध शुरू कर दिया. जबकि इंदौर में हिंदू जागरण मंच के कार्यकर्ताओं ने विरोध स्वरूप मंदिर की सीढ़ियों पर उनके पोस्टर लगा दिए. 

ये भी पढ़ें- Watch: धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री के खिलाफ बसोर समाज ने खोला मोर्चा, मामला दर्ज करने की मांग, जानें वजह

[ad_2]

Source link

You May Also Like

More From Author