ये हैं मार्केट के टॉप 8 पोर्टफोलियो मैनेजर, जिन्होंने साल भर में दिया कम से कम 50% रिटर्न

1 min read

[ad_1]

शेयर बाजार में निवेश करने वालों में अच्छी-खासी हिस्सेदारी वैसे निवेशकों की होती है, जिन्हें हाई नेटवर्थ इंडिविजुअल्स यानी एचएनआई कहा जाता है. ये एचएनआई अपने पोर्टफोलियो को मैनेज करने के लिए मैनेजर्स नियुक्त करते हैं. पिछले एक साल के दौरान इनमें से कई पोर्टफोलियो मैनेजमेंट सर्विस प्रोवाइडर्स यानी पीएमएस मैनेजर्स ने अपने क्लाइंट को शानदार रिटर्न दिलाया है.

बाजार को बड़े अंतर से दी है मात

बिजनेस टुडे की एक रिपोर्ट के अनुसार, कम से कम 8 ऐसे पीएमएस मैनेजर हैं, जिन्होंने पिछले एक साल के दौरान अपने क्लाइंट को 50-50 फीसदी से ज्यादा रिटर्न दिलाया है. यह रिटर्न इस कारण शानदार हो जाता है क्योंकि बाजार की तुलना में यह कई गुना ज्यादा है. पिछले एक साल के दौरान बीएसई सेंसेक्स में करीब 16 फीसदी की तेजी आई है. इसका मतलब हुआ कि टॉप-8 पीएमएस मैनेजर्स ने बाजार की तुलना में कम से कम 3 गुने का रिटर्न दिलाया है.

इन तीनों का रिटर्न रहा सबसे शानदार

पिछले एक साल के दौरान Aequitas Investment Consultancy की पीएमएस स्कीम India Opportunities Product रिटर्न देने के मामले में सबसे आगे रही है. इस स्कीम ने 68.98 फीसदी का रिटर्न दिया है. उसके बाद 66.56 फीसदी के रिटर्न के साथ Samvitti Capita की PMS Active Alpha Multicap का स्थान रहा है. तीसरे नंबर पर InvestSavvy Portfolio Management LLP की स्कीम Alpha Fund रही है, जिसने 61.68 फीसदी का रिटर्न दिया है.

इन पीएमएस स्कीम ने भी दिया बढ़िया रिटर्न

रिपोर्ट के अनुसार, हेम सिक्योरिटीज (Hem Securities) की इंडिया राइजिंग एसएमई स्टार्स (India Rising SME Stars) ने 60.60 फीसदी, 03 सिक्योरिटीज (O3 Securities) की स्पेशल सिचुएशंस पोर्टफोलियो (Special Situations Portfolio) ने 59.82 फीसदी, मैक्सिमल कैपिटल (Maximal Capital) की पाथफाइंडर वैल्यू फंड (Pathfinder Value Fund) ने 58.72 फीसदी, आई थॉट फाइनेंशियल कंसल्टिंग एलएलपी (Ithought Financial Consulting LLP) की वृद्धि (Vrddhi) ने 56.51 फीसदी और असित सी मेहता इन्वेस्टमेंट इंटरमीडिएट्स (Asit C Mehta Investment Intermediates) की एस प्राइम इक्विटी (Ace Prime Equity) ने 51.58 फीसदी का रिटर्न दिया है.

ये है मिनिमम टिकट साइज

एचएनआई के लिए पोर्टफोलियो मैनेजमेंट सर्विस प्रोवाइड करने वाले मैनेजर्स पिछले कुछ सालों में तेजी से बढ़े हैं. ये उच्च नेटवर्थ वाले लोगों को बेहतर से बेहतर रिटर्न वाला निवेश करने में प्रोफेशनल मदद करते हैं. भारत में पीएमएस इन्वेस्टमेंट की शुरुआत कम से कम 50 लाख रुपये के निवेश से होती है.

 

[ad_2]

Source link

You May Also Like

More From Author