10 हजार लगाने वालों को कराई 300 करोड़ की कमाई, 4 दशक बाद अब ले लिया संन्यास

1 min read

[ad_1]

<p>वेटरन बैंकर उदय कोटक ने कोटक महिंद्रा बैंक के एमडी एवं सीईओ के पद से इस्तीफा दे दिया है. वे कई सालों से प्राइवेट सेक्टर के कोटक महिंद्रा बैंक को लीड कर रहे थे. बैंक ने आज शनिवार को शेयर बाजारों को इसकी जानकारी दी है. बैंक ने बताया है कि उदय कोटक का इस्तीफा 1 सितंबर से ही प्रभावी हो गया है.</p>
<h3>इन्हें मिली अंतरिम जिम्मेदारी</h3>
<p>कोटक महिंद्रा बैंक में उदय कोटक की जगह एमडी एवं सीईओ का पद संभालने की अंतरिम जिम्मेदारी फिलहाल दीपक गुप्ता को दी गई है, जो बैंक में ज्वाइंट मैनेजिंग डाइरेक्टर हैं. बैंक ने बताया है कि दीपक गुप्ता को अंतरिम इंतजाम के तहत एमडी एवं सीईओ पद की जिम्मेदारी 31 दिसंबर तक के लिए दी गई है. हालांकि अभी इस फैसले को बैंक मेंबर्स और आरबीआई की मंजूरी मिलनी बाकी है.</p>
<h3>समय से पहले छोड़ दिया पद</h3>
<p>उदय कोटक लंबे समय से इस्तीफे की तैयारी कर रहे थे. उन्होंने शनिवार को एक सोशल मीडिया पोस्ट में बताया कि उन्होंने सक्सेशन प्लान के तहत इस्तीफा दिया है. वह फिलहाल बैंक के नॉन-एक्सीक्यूटिव डाइरेक्टर बने रहेंगे. उन्होंने समय से पहले अपने पद से इस्तीफा दिया है. कोटक महिंद्रा बैंक के एमडी एवं सीईओ के पद पर उनका कार्यकाल 31 दिसंबर 2023 को समाप्त होने वाला था.</p>
<h3>इस कारण दिया इस्तीफा</h3>
<p>उदय कोटक ने सोशल मीडिया पोस्ट में लिखा है…कोटक महिंद्रा बैंक में सक्सेशन मेरे दिमाग में सबसे ऊपर चल रहा था. साल के अंत तक चेयरमैन, मुझे और ज्वाइंट एमडी तीनों को पद से हटने की जरूरत थी. मैं चाहता रहा हूं कि हम तीनों के हटने के बाद नए लोगों को जिम्मेदारी सौंपने की प्रक्रिया सरल होनी चाहिए. इसे ध्यान में रखते हुए मैंने प्रक्रिया की शुरुआत की है और स्वेच्छा से सीईओ पद छोड़ रहा हूं.</p>
<h3>1985 से बना हुआ था साथ</h3>
<p>उदय कोटक उस समय से कोटक महिंद्रा बैंक को लीड कर रहे थे, जब से उसका अस्तित्व शुरू हुआ है. कोटक महिंद्रा बैंक की शुरुआत साल 1985 में एक गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनी के तौर पर हुई थी. उसके बाद 2003 में वह कमर्शियल बैंक बना. उदय कोटक 1985 से ही बैंक को लीड करते आ रहे हैं. इस तरह देखें तो कोटक महिंद्रा बैंक के साथ उदय कोटक का नाता कई दशकों पुराना है.</p>
<h3>इतनी है उदय कोटक की नेटवर्थ</h3>
<p>उदय कोटक की गिनती भारत ही नहीं बल्कि दुनिया के शानदार बैंकरों में की जाती है. वह दुनिया के चोटी के अमीरों में भी गिने जाते हैं. ब्लूमबर्ग बिलेनियर्स इंडेक्स के अनुसार, उदय कोटक की मौजूदा नेटवर्थ करीब 13.4 बिलियन डॉलर है. इक्विटी शेयर कैपिटल के हिसाब से कोटक महिंद्रा बैंक में उदय कोटक के पास करीब 26 फीसदी हिस्सेदारी है.</p>
<h3>3 स्टाफ के साथ हुई थी शुरुआत</h3>
<p>उदय कोटक ने इस मौके पर याद किया कि किस तरह से उन्होंने कोटक महिंद्रा बैंक की शुरुआत की थी. वह कहते हैं… मैं जेपी मॉर्गन और गोल्डमैन सैश जैसे नाम को देखता था और यह भी देखता था कि वे कैसे फाइनेंशियल वर्ल्ड पर छाए हुए हैं. मैं भारत में भी वैसे ही एक संस्थान का सपना देखता था. उसी सपने को पूरा करने के लिए 38 साल पहले मैंने कोटक महिंद्रा बैंक की शुरुआत की थी. हमारी शुरुआत 300 स्क्वेयर फीट के ऑफिस में 3 कर्मचारियों के साथ हुई थी…</p>
<h3>अभी ऐसे मुकाम पर पहुंचा है बैंक</h3>
<p>आज के समय में कोटक महिंद्रा बैंक भारत के सबसे प्रमुख बैंकों में एक बन चुका है. यह बैंक अभी सीधे तौर पर एक लाख से ज्यादा लोगों को रोजगार उपलब्ध करा रहा है. उदय कोटक करीब 4 दशकों की इस बेमिसाल यात्रा को समराइज करते हुए कहते हैं कि 1985 में बैंक में किए गए 10 हजार रुपये के इन्वेस्टमेंट की वैल्यू आज के समय में करीब 300 करोड़ रुपये हो गई है…</p>
<p><strong>ये भी पढ़ें: <a title="इस महीने 2.5 बिलियन डॉलर जुटाने की तैयारी में अंबानी की ये कंपनी" href="https://www.abplive.com/photo-gallery/business/reliance-retail-ventures-of-mukesh-ambani-ril-planning-to-raise-fund-worth-billions-2486128" target="_blank" rel="noopener">इस महीने 2.5 बिलियन डॉलर जुटाने की तैयारी में अंबानी की ये कंपनी</a></strong></p>

[ad_2]

Source link

You May Also Like

More From Author