6G कनेक्टिविटी पर मिलकर काम करेंगे भारत और अमेरिका, साइन हुआ MOU

1 min read

[ad_1]

6G Connectivity: भारत ने जिस तरह 5G नेटवर्क का विस्तार तेजी से किया है, इसी स्पीड से सरकार 6G पर भी काम करना चाहती है. इसको लेकर जी20 समिट में भारत और अमेरिका के बीच टेलीकम्युनिकेशन क्षेत्र में एक महत्वपूर्व साझेदारी हुई है. दरअसल, दोनों देश 6G पर मिलकर काम करेंगे और कैसे टेक्नोलॉजी को बेस्ट यूज में लाया जा सकता है इसपर विचार किया जाएगा. इसके लिए एलायंस फॉर टेलीकम्युनिकेशंस इंडस्ट्री सॉल्यूशंस (एटीआईएस) के नेक्स्ट जी एलायंस और भारत 6जी एलायंस ने एक MOU साइन किया है.

क्या है Next G Alliance?

नेक्स्ट जी एलायंस 6G, एटीआईएस द्वारा शुरू की गई एक पहल है जिसका मकसद 6G पर प्रारंभिक फोकस के साथ निजी क्षेत्र के नेतृत्व वाले प्रयासों के माध्यम से अगले दशक में उत्तरी अमेरिकी वायरलेस प्रौद्योगिकी नेतृत्व को आगे बढ़ाना है. इस एलायंस में अमेरिका की कई कंपनियां शामिल हैं. वहीं, भारत 6जी एलायंस भारतीय उद्योग, शिक्षा जगत, राष्ट्रीय अनुसंधान संस्थानों और मानक संगठनों की एक पहल है जिसका उद्देश्य भारत 6G मिशन के साथ प्रौद्योगिकी और नवाचारों को डिजाइन, विकसित और तैनात करना है ताकि भारत और दुनियाभर में नागरिकों को उच्च गुणवत्ता और सुरक्षित जीवन अनुभव प्रदान हो सके.

भारत 6G एलायंस का लक्ष्य अन्य बातों के साथ-साथ दूरसंचार उत्पादों और समाधानों के लिए रिसर्च, डिजाइन, विकास, आईपीआर निर्माण, क्षेत्र परीक्षण, सुरक्षा, प्रमाणन और विनिर्माण के लिए पारिस्थितिकी तंत्र को बढ़ावा देना है. दोनों संगठनों के बीच समझौता ज्ञापन पर एटीआईएस के अध्यक्ष और सीईओ सुसान मिलर और भारत 6G एलायंस के अध्यक्ष एनजी सुब्रमण्यम ने हस्ताक्षर किए. 

बता दें, आज जी20 समिट का आखिरी दिन है. आज की थीम वन फ्यूचर है और आज भारत ब्राजील को 2024 में G20 की अध्यक्षता की जिम्मेदारी भी सौंपेगा. सेशन शुरू होने से पहले दुनियाभर के शीर्ष नेता आज महात्मा गांधी की समाधि स्थल राजघाट पहुंच रहे हैं जहां सभी नेता पुष्पांजलि अर्पित करेंगे. 

यह भी पढ़ें:

Apple वॉच सीरीज 9 और Ultra 2 में क्या कुछ नया मिलेगा वो जानिए, इतनी हो सकती है कीमत 

[ad_2]

Source link

You May Also Like

More From Author